COPY PASTE

Sunday, 16 June 2019

2019-20 में मानसून में देरी से ग्वार की बीजाई घटेगी या बढ़ेगी ?

2019-20 में मानसून में देरी से ग्वार की बीजाई घटेगी या बढ़ेगी ? इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l


ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Friday, 14 June 2019

क्या 2019-20 में ग्वार की खेती फायदेमंद रहेगी ?

अमेरिका व चीन के बीच जारी व्यापारिक तनाव के कारण कच्चे तेल की कीमते अन्तराष्ट्रीय बाज़ारों में तेज़ी से गिर रही है l अभी कच्चे तेल की कीमत 61 डॉलर प्रति बरेल से भी निचे आगई है l जो की पिछले चार महिने के निम्नतम स्तर पर है l गिरती हुयी कच्चे तेल की कीमतों ने अंतराष्ट्रीय बाज़ारों में दबाब बना रखा है l अमेरिका में कच्चे तेल की खुदाई की आयल रिग की संख्या में भी गिरावट दर्ज की गयी है l अमेरिक में अभी 984 आयल रिग सक्रिय है जो की पिछले वर्ष की गणना से 76 कम है l बारिश के बाद में कच्चे तेल कीमते ग्वार को प्रभावित करने वाला सबसे बड़ा कारक है l


साधारणतया जून-जुलाई का महीना ग्वार व ग्वार की बिजाई का समय होता है l इसा समय ग्वार की मांग बाज़ार में ज्यादा रहती है। इस समय किसान से ग्वार की आवक बाज़ार में नहीं होती है।ज्यादातर छोटे किसान अपना ग्वार का स्टॉक फ़रवरी-मार्च तक बेच चुके होते है। सिंचित क्षेत्र के किसान प्रमाणित बीज से बीजाई करते है l लेकिन बरानी क्षेत्र में किसान अपने घर का बीज ही काम में लेते है l प्राप्त जानकारी के अनुसार कपास व खरीफ की दूसरी दालों के अच्छे भाव मिलाने के कारन ग्वार की बीजाई पीछल्रे वर्ष से घटने की आशंका है l

ग्वार की नयी फसल अक्तूबर व नवम्बर महीने में आएगी। व्यापारी या खरीददार अभी ग्वार व ग्वार गम के स्टॉक लेने की बजाय नयी फसल के आगमन पर ग्वार या ग्वार गम खरीदने की योजना बनायेंगे। कमजोर व मानसून में देरी के सिवाय कोई भी दूसरा फंडामेंटल कारक अभी ऐसा नहीं है जो ग्वार व ग्वार गम की कीमतों को सहारा दे सके l बाज़ार के जानकारों के अनुसार ग्वार निचे के स्तर 4000 रूपए प्रति क्विटल को नहीं तोड़ेगा l ग्वार अभी 4100 रूपए प्रति क्विटल के आस पास चल रहा है l


इस वर्ष ग्वार व ग्वार गम की कीमतों ने किसानो को कोई ज्यादा मुनाफा नहीं दिया है l पुरे वर्ष के दौरान ग्वार की कीमते 4100-4800 के बीच में घटती बढती रही। ग्वार गम पाउडर की निर्यात की मांग नहीं होने के कारन ग्वार गम के भावों में इस वर्ष तेज़ी देखने को नहीं मिली। ग्वार की कीमतों को मुख्य सहारा इस वर्ष ग्वार चुरी कोरमा की कीमतों से मिला है l ग्वार चुरी निर्यात होने वाला एक महत्वपूर्ण ग्वार उत्पाद के रूप में उभरा है l विदेशों में पशु आहार प्रोटीन की बढती मांग के कारण के ग्वार चुरी व ग्वार कोरमा के निर्यात में बढ़ोतरी हुयी है l ग्वार गम के पाउडर के निर्यात में कमी दर्ज की गयी है हालाँकि अभी पिछले वर्ष के फाइनल आंकड़े नहीं आये है l 



किसान भाई ग्वार की फसल को प्राथमिक फसल के रूप में बिजाई न करे l ग्वार की फसल को दूसरी वरीयता दे l बाज़ार में जीतनी ज्यादा आवक ग्वार की रहेगी किसान को उतना ही नुकसान है l कृषि गोदामों में रखा माल ग्वार के भाव को चढने ही नहीं देगा l मजबूरन किसानों को विदेशी कंपनी से निर्धारित दाम पर माल बेचन पड़ेगा l जो ग्वार गम पाउडर हम भारत से 100 रुपये किलो पर बहार भेजते है l वो ही ग्वार गम भारत में 1000 रूपए प्रति किलो के भाव पर वापस आ रहा है l

अभी तक की परिस्थिति के अनुसार किसान ग्वार के भाव को 5000 रूपए प्रति क्विटल से ऊपर ले कर नहीं चले l जन्हा तक मानसून के आगमन का सवाल है l अभी तक मानसून के सामान्य रहने की उम्मीद है । केरल में मानसून का आगमन हो चूका है। सामान्य मानसून की स्थिति में ग्वार उत्पादन क्षेत्र में खरीफ की दूसरी दलहन फसलों की बिजाई ग्वार से ज्यादा होगी l हरियाणा में हरियाणा सरकार मक्का की खेती पर किसानों को आर्थिक सहायत दे रही है । राजस्थान में भी किसान बाजार मूंग मोठ पर ज्यादा ध्यान दे रहे है, इस वर्ष किसानों को बाजरे के अच्छे दाम मिल रहे है l 

ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l



Sunday, 9 June 2019

क्या 2019-20 में ग्वार की खेती किसानों के लिए फायदेमंद रहेगी ?

क्या 2019-20 में ग्वार की खेती  किसानों  के लिए फायदेमंद रहेगी ?? l इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l


ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Sunday, 19 May 2019

Why are Guar gum prices not getting support from strong crude oil price ?

Currently crude oil prices are strong in international market due to increasing conflict between Iran and USA. In recent development USA has put strict restrictions on buying of crude oil from IRAN. Supply of crude oil has become tight with current geopolitics over Venezuela and Iran. Currently crude oil is being traded around USD 72/ Barrel. There are possibilities that crude oil prices may go up further with increasing tension in oil producing regions.



Even though crude oil prices and export of guar gum both are increasing but Guar gum and guar seed prices are not getting enough support from these two positive factors. Export of Guar products is shifting from Guar gum to Guar korma. Increasing Guar korma export is good for gaur industry to support guar prices at lower side, but export of Guar gum is very important to keep the prices strong at upper side.

Why are Guar gum prices not getting support from strong crude oil price ?, Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

Indian gaur gum exporters are focused only on demand from oil and natural gas industry. Demand from oil and natural gas industry is highly competitive and volatile. Exporter must focus on demand from other than oil and natural gas industry. Demand from oil and natural gas industry in becoming very risky for whole Guar gum industry. Food and industrial demand is very important. It is stable and long term.




Now guar prices will keep roaming between INR 4000-5000/100Kg . Strong demand of Guar korma will not let the guar prices fall below INR 4000/Kg. Sluggish demand of guar gum from oil and natural gas industry will not let it go higher than INR 5000/100 Kg. This will remain primary limit till new crop will arrive in market in Nobember-2019. Fresh sowing of Guar crop and arrival of monsoon will set new limit of price movement. Even in worst case guar prices will not go below 4000/100Kg at lower side. 

Since there is no any other alternate crop to guar in rain fed area so guar sowing area will not fall freely. Farmers will go for Guar cultivation in rain fed area. If water will available in irrigation canal in sufficient quantity then farmers will go for cotton crop in irrigated area. Otherwise farmer may do the sowing of guar in irrigated area. 




Few multinational companies are collecting data from farmer and guar growing area in pretext to doing CSR project on Guar. These companies are end user of the guar gum in bulk quantity. These companies are using these data to run the guar busindustry with the help of their Indian partners. In next step these companies will force farmers to sell their produce as per profit and loss of the company. Farmers must keep themselves away from these companies in long term.

Please visit and subscribe the YOUTUBE channel, for the latest update and information on Guar & Guar gum 


Friday, 17 May 2019

कच्चे तेल की तेज़ी से क्या ग्वार के भाव 5000 से ऊपर जायेंगे ?

कच्चे तेल की तेज़ी से क्या ग्वार के भाव 5000 से ऊपर जायेंगे ? l इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l


ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Thursday, 16 May 2019

Guar export has increased by 14.27% in year 2018-2019

As per the data released by APEDA and Agriculture ministry, total export of guar products from April-2018 to March-2019 is 5,13,218 MT, which is 64,093 MT higher than last year. Last year export of guar gum was 4, 49,125 MT. This is positive news for the guar farmers and guar gum exporters that guar products export has increased by 14.27%. This year Guar has generated the foreign exchange of 675 Million USD or equal to 4707 Crore Indian rupees. 



Guar is third largest exportable agriculture commodity after Basmati Rice, Normal Rice and Meat. Other agriculture commodities consume a lot of resources like water, electricity, land, farm inputs. These agriculture commodities also consume financial assistance and subsidy from Govt. Guar is totally different from it. Guar is a rainfed crop cultivated in dry area. Guar doesn’t consume any natural resources and it is not depended on Govt subsidy. 

Guar export has increased by 14.27% in year 2018-2019, Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

Guar has emerged as major exportable commodity. But farmers are not benefiting due to volatility in commodities markets and speculations. As per the available data Guar is being exported at USD 1315/MT or INR 91/Kg, while farmers are getting INR 40-43 /Kg for their guar in current guar production cycle. 

There was landing of Feni cyclone in Orisa. As per metrological experts there will be no effect of FENI cyclone on arrival of monsoon. If arrival of monsoon remains normal and timely then there are possibilities that guar cultivation area will shrink. Farmer may opt other Kharif pulses crop for sowing due to lower prices of Guar in recent years. 




The farmers who want to go for Guar sowing should do a soil turning deep ploughing of their farm in May and June month. Soil born disease will be controlled with the help of deep ploughing. If there was attack of root rot disease in previous crop then don’t plan for guar sowing in same plot/patch of farm. Farmers should buy or book their seed in advance. Please buy the Bavistin / carbendazim for seed treatment against fungal disease. 

There is pressure of good Monsoon on Guar prices. Arrival of Guar in market is approximately nil. There will be demand of Guar in current month as Guar sowing seed. There will total demand of 30,000-35000 MT as seed. Guar prices are around INR 4300/100Kg and guar gum prices are around 8900/100kg in local market.

Saturday, 11 May 2019

ग्वार गम व अन्य ग्वार उत्पाद के कुल निर्यात में 2018-2019 में 14.27% के बढ़ोतरी

कृषि मंत्रालय व एपेडा द्वारा जारी आंकड़ो के अनुसार पिछले वित् वर्ष अप्रैल-2018 – मार्च-2019 तक ग्वार उत्पादों का कुल निर्यात 5,13,218 मेट्रिक टन हुआ है l जो की पिछले वर्ष के ग्वार उत्पादों के कुल निर्यात से 64,093 MT ज्यादा है l पिछले वर्ष कुल 4,49,125 MT ग्वार उत्पादों का निर्यात हुआ था l ग्वार उत्पादों के निर्यात में 14.27 % की बढोतरी होना भारतीय ग्वार उत्पादक किसानों व ग्वार गम प्रोसेसिंग उद्योगों के लिए एक सकारात्मक समाचार है l इस वर्ष ग्वार निर्यात से देश को 675 मिलियन डॉलर या 4707 करोड़ रूपए के बराबर की विदेशी मुद्रा मिली है l


बासमती चावल, साधारण चावल, मांस के बाद ग्वार निर्यात होने वाला तीसरा सबसे बड़ा कृषि उत्पाद है l बाकि कृषि उत्पाद देश के संसाधनों जैसे पानी, बिजली, जमीन उर्वरक का दोहन करते है, उनको सरकारी सहायत व ऋण मिलता है, न्यूनतम समर्थन मूल्य से सरक्षित है l इन सब के विपरीत ग्वार शुष्क क्षेत्र व वर्षा आधारित कृषि उत्पाद है l जो न तो प्राकृतिक संसाधनों का दोहन करता न ही किसी विशेष सरकारी अनुदान या सहायता पर आधारित है l 


ग्वार भारत से निर्यात होने वाला एक महतवपूर्ण कृषि उत्पाद के रूप में उभरा है l लेकिन वायदा बाज़ार के उतर चढाव व बाजारों की सट्टेबाजी के कारण ग्वार के निर्यात का फायदा किसानों तक नहीं पहुँच पाता l प्राप्त आंकड़ों के अनुसार ग्वार का निर्यात 1315 डॉलर प्रति मेट्रिक टन या 91 रूपए प्रति किलो के भाव पर हो रह है l जबकि किसान को पिछले वर्ष ( चालू उत्पादन वर्ष में ) ग्वार का औसत भाव 40 - 43 रूपए प्रति किलो से ज्यादा नहीं मिल रह है l 

उड़ीसा में मानसून पूर्व फेनी तूफ़ान आया हुआ है l मौषम वैज्ञानिको के अनुसार फेनी तूफ़ान का डेढ़ महीने बाद आने वाले मानसून के आगमन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा l अगर मानसून का आगमन पूर्वानुमान के अनुसार समय पर व सामान्य रहता है तो ग्वार की बीजाई कम होने  की उम्मीद है l क्योंकि किसान ग्वार की कम कीमतों से हतौत्साहित हो कर के खरीफ की दूसरी दलहन फसलो की बिजाई करेगा l जिससे आनेवाले उत्पादन वर्ष में ग्वार का उत्पादन इस वर्ष से और भी कम होगा l 




जो किसान ग्वार की बुवाई करना चाहते है वो एक बार गर्मियों ( मई-जून ) में अपने खेत की गहरी जुताई जरुर कर दे l गहरी जुताई करने से जमीं से फैलाब्ने वाले रोगों में कमी होगीl अगर किसी ग्वार के खेत में पीछली बार जड़ गलन की समस्या आयी हो तो उस खेत में ग्वार की नयी बिजाई की योजना न बनाये l किसान अपना ग्वार का बीज अभी से बुक करवाले या खरीद कर रख ले l ग्वार के बीजोपचार के लिए बावेस्टीन या कोर्बोडेज़िम दवाई जरुर खरीद ले l 

बाज़ार में ग्वार के भावों पर अभी अच्छे मानसून के पुर्वानुमान का दबाब चल रहा है। ग्वार की आवक बाज़ार में नहीं के बराबर है। इस महीने ग्वार के निर्यात से अलग ग्वार की मांग बीज के रूम में भी होगी। तकरीबन 30,000- 35,000 MT ग्वार की जरुरत बीज के रूप में रहेगी है। स्थानीय बाज़ारों में ग्वार के भाव 4300 रूपए प्रति क्विटल के आस पास चल रहे है तथा ग्वार गम के भाव 8900 प्रति क्विटल के आस पास चल रहे है



ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l


Monday, 6 May 2019

ग्वार उत्पाद के कुल निर्यात में 14.27% की बढ़ोतरी

ग्वार उत्पाद के कुल निर्यात में 14.27% की बढ़ोतरी l इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l


ग्वार व ग्वार गम पर  ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l


Monday, 29 April 2019

ग्वार गम पाउडर के निर्यात में इस वर्ष जनवरी तक 29% की कमी

APEDA द्वारा जारी कृषि उत्पादों के निर्यात के आंकड़ों के अनुसार 4,65,705 मेट्रिक टन ग्वार उत्पादों का निर्यात हुआ है l जो की पिछले वर्ष से 15,977 मेट्रिक टन ज्यादा है l पिछले वर्ष फ़रवरी तक ग्वार उत्पादों का निर्यात 4,49,728 मीट्रिक टन हुआ था l ग्वार के कुल उत्पाद के निर्यात के हिसाब से यह एक वृद्धि है l लेकिन जनवरी तक आंकड़ों के विस्तार से व गहराई से आंकलन करते है ग्वार के मुख्य उत्पाद ( ग्वार गम ) के निर्यात में भारी गिरावट दर्ज की गयी है l



अप्रैल-18 से जनवारी-19 तक ग्वार कोरमा के निर्यात में 5020 मीट्रिक टन की गिरावट दर्ज की गयी है इस वर्ष ग्वार कोरमा का निर्यात 1,22,417 मेटरिक टन हुआ है पिछले वर्ष 1,27,437 मीट्रिक टन ग्वार कोरमा का निर्यात था l अप्रैल-18 से जनवारी-19 तक ग्वार गम पाउडर के निर्यात में 94,391 मीट्रिक टन की गिरावट दर्ज की गयी है l इस वर्ष ग्वार गम पाउडर का निर्यात 2,27,532 मेटरिक टन हुआ है पिछले वर्ष 3,21,923 मीट्रिक टन ग्वार गम पाउडर का निर्यात हुआ था l
ग्वार गम पाउडर के निर्यात में  इस वर्ष जनवरी तक 29% की कमीl Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

हालांकि अप्रैल-18 से जनवारी-19 तक ग्वार स्प्लिट के निर्यात में 21,127 मीट्रिक टन की बढ़ोतरी दर्ज की गयी है l इस वर्ष ग्वार स्प्लिट का निर्यात 65,867 मीट्रिक टन हुआ है पिछले वर्ष 44,740 मीट्रिक टन ग्वार गम स्प्लिट का निर्यात हुआ था l ग्वार गम पाउडर के निर्यात में गिरावट एक चिंता का विषय है l हालांकि ये विस्तृत आंकड़े सिर्फ जनवरी तक के ही है l अभी दो महिनें के विस्तृत आंकड़े आने बाकि है l जनवरी तक ग्वार उत्पाद में लगभग 80,000 मीट्रिक टन की गिरावट होना एक अच्छा संकेत नहीं है l 



लगभग 73,200 मीट्रिक टन की ग्वार गम में गिरावट का अर्थ है लगभग 2,10,000 मीट्रिक टन या 21,00,000 बोरी( 100 किलो ) ग्वार की खपत कम होना l ग्वार कोरमा ग्वार गम प्रोसेसिंग का उप उत्पाद है l उसका निर्यात बढ़ने से गवार की खपात में कोई विशेष अंतर नहीं पड़ेगा l 21 लाख बोरी की खपत कम होने से ग्वार की मांग में काफी कमी आ सकती है l हालांकि इस वर्ष ग्वार के उत्पादन के काफी कमी दर्ज की गयी थी l 

इस सप्ताह NCDEX पर ग्वार के भाव 20 मई के सौदे के लिए 4362 रूपए प्रति क्विंटल, BSE पर 30 अप्रेल के सौदे के लिए ग्वार के भाव 4368 रूपए प्रति क्विंटल, NCDEX पर स्पॉट के भाव 4342 रूपए प्रति क्विटल l इसी तरह NCDEX पर ग्वार गम के भाव 20 मई के सौदे के लिए 8755 रूपए प्रति क्विंटल, NCDEX पर ग्वार गम के स्पॉट के भाव 8753 रूपए प्रति क्विटल के आस पास चल रहे है l स्थानीय मंडियों में ग्वार के भाव 4400 रूपए प्रति क्विटल व ग्वार गम के भाव 9000 रूपए प्रति क्विंटल के आस पास चल रहे है l

पिछले सप्ताह ग्वार के भावों में काफी गिरावट दर्ज की गयी थी l गिरावट के बाद भावों में कोई विशेष बढ़ोतरी नजरी नहीं आयी है l साथ में मानसून के अच्छे पूर्वानुमान की घोषणा के कारण ग्वार के भावों पर दबाब आगया l बाकी इस मौषम में बीजाई से पहेले ग्वार के भावों में गिरावट नहीं होनी चाहिए l गवार की बीजाई के दौरान ग्वार की खपत बीज के रूप में बढ़ेगी l

ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Friday, 26 April 2019

जनवरी तक ग्वारगम पाउडर के निर्यात में 29% की कमी

जनवरी तक ग्वारगम पाउडर के निर्यात में 29% की कमी   इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l 


ग्वार व ग्वार गम पर  ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Saturday, 20 April 2019

क्या ग्वार व ग्वार गम के भाव क्या सिर्फ मानसून के पूर्वानुमान से निर्धारित होंगे l

इस सप्ताह भारतीय मौषम विभाग ने मानसून के आगमन से सम्बंधित पूर्वानुमान जारी किया l विदेशी मौषम एजेंसियों के विपरीत अल नीनो की संभावना को बहुत कम बताया है l प्रेस कांग्रेस के बाद वायदा बाज़ार में ग्वार के भावों में भारी गिरावट देखी गयी l किसान व व्यापारी वर्ग ग्वार के भावों में और ज्यादा गिरवाट की आशंका से चिंतित है l ग्वार के भावो को प्रभावित करने वाल मानसून अकेला कारक नहीं है l 




वैश्विक बाज़ार में कच्चे तेल की कीमतों में सुधार लगातार जारी है l कच्चा तेल ग्वार की कीमतों को प्रबह्वित करने वाल सबसे बड़ा कारक है l कच्चे तेल की कीमतों में सुधार होने से तेल की खुदाई की नयी गतिविधिया बढ़ेगी व ग्वार की मांग में भी बढ़ोतरी होगी l कच्चे तेल की कीमते पिछले 5-6 महीने के उच्चतम स्तर पर है l अभी कच्चे तेल के भाव 71 डॉलर प्रति बेरल से ऊपर चल रहे है l कच्चे तेल की बढाती कीमतों का फायदा अमेरिका की शैल गैस व तेल उत्पादन कंपनी को हो रहा है l 

क्या ग्वार व ग्वार गम  के भाव क्या सिर्फ मानसून के पूर्वानुमान से निर्धारित होंगे l Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

बेकर हुज के तेल के खुदाई के रिग काउंट के आंकड़े भी ग्वार के भावों के लिए सकारात्मक है 12 अप्रैल 2019 तक अमेरिका में 1022 आयल रिग सक्रिय है जो की पिछले वर्ष से 14 ज्यादा है l कच्चे तेल की कीमते बढ़ने से ग्वार व दुसरे ड्रिलिंग उत्पाद की मांग और बढ़ेगी l ग्वार गम की लग भाग 50-60% खपत कच्चे तेल के कुए की खुदाई उद्योग में होती है l 

मानसून के आम्भिक अनुमान से घबराने की जरूर अभी नहीं है l फसल का उत्पादन हो कर जब तक माल किसान अपने घर या गौदाम में ना डाल दे तब तक अनुमान को महज एक अनुमान ले कर ही चलाना चाहिए l अगले 2-3 महीने में 30,000-35,000 MT ग्वार की जरुरत ग्वार के बीज के रूप में होगी l किसान व व्यापारियों को 3-4 महीने घबराने की जरुरत नहीं है l अगले 6-7 महिने तक ग्वार की आवक बाज़ार में बहुत सिमित या नगण्य रहेगी l 




कुछ बहुराष्ट्रीय कंपनी एनजीओ के माध्यम से समाज सेवा के नाम पर किसानों के बीच में बाजार की जानकारी इकठ्ठी कर रही है l इन जानकारी के सहारे वो किसानो से सस्ता ग्वार व व्यापारियों से सस्ती ग्वार गम खरीद रही है l बाज़ार की जानकारी व उत्पादन के आंकड़े इकठ्ठा करने के बाद ये कंपनी अपने हिसाब से बाजार को चलाती है l किसानो व व्यापारियों को ऐसी बहुराष्ट्रीय कंपनी, एनजीओ व समाजसेवा से दूर रहने की जरुरत है l 

इस सप्ताह NCDEX पर ग्वार के भाव 20 मई के सौदे के लिए 4320 रूपए प्रति क्विंटल, BSE पर 30 अप्रेल के सौदे के लिए ग्वार के भाव 4315 रूपए प्रति क्विंटल, NCDEX पर स्पॉट के भाव 4385 रूपए प्रति क्विटल l इसी तरह NCDEX पर ग्वार गम के भाव 20 मई के सौदे के लिए 8700 रूपए प्रति क्विंटल, NCDEX पर ग्वार गम के स्पॉट के भाव 8733 रूपए प्रति क्विटल के आस पास चल रहे है l स्थानीय मंडियों में ग्वार के भाव 4500 रूपए प्रति क्विटल व ग्वार गम के भाव 9000 रूपए प्रति क्विंटल के आस पास चल रहे है l

ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l


Friday, 19 April 2019

क्या ग्वार के भाव केवल मानसून के पूर्वानुमान पर टिके है ??

क्या ग्वार के भाव केवल मानसून के पूर्वानुमान पर टिके है ?  इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l 


ग्वार व ग्वार गम पर  ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Tuesday, 16 April 2019

ग्वार के निर्यात में अप्रेल 2018 से फ़रवरी 2019 तक 14.81 % की बढ़ोतरी

एपेडा द्वारा जारी कृषि उत्पाद के निर्यात के आंकड़ो के अनुसार इस वर्ष फ़रवरी-2019 तक ग्वार के निर्यात में 14.81 % की बढोतरी हुयी है l इस वर्ष अप्रैल-18 से फ़रवरी-19 तक 4263 करोड़ रूपए का ग्वार उत्पाद निर्यात हुआ है पिछले वर्ष इसी समय के दौरान 3713 करोड़ रूपए का ग्वार उत्पाद निर्यात हुआ था l फ़रवरी तक इस वर्ष पिछले वर्ष के मुकाबले 550 करोड़ रुपये ज्यादा का ग्वार उत्पाद निर्यात हुआ है l 




अभी तक फ़रवरी महीने के ही आंकड़े जारी हुए है मार्च महिने के आंकड़े आने अभी बाकी है l पिछले वर्ष के ग्वार की निर्यात की सही स्थिति का पात तो मार्च महीने के आंकड़ो के जारी होने के बाद ही पात चलेगा l मोटे तौर पर ग्वार के निर्यात में प्रति वर्ष बढ़ोतरी हो रही है l बेकर हुज के रिग काउंट के आंकड़ो के अनुसार अमेरिका में सक्रिय तेल की खुदाई की आयल रिग की संख्या में बढोतरी हो रही है l 5 अप्रैल तक जारी आंकड़ो एक अनुसार अमेरिका में 1025 आयल रिग सक्रिय है l जो की पिछले वर्ष इसी समय की गिनती से से 22 ज्यादा है तथा 29 मार्च 2019 को आयल रिग की पिछली गिनती से 19 ज्यादा है l 

ग्वार के निर्यात में अप्रेल 2018 से फ़रवरी 2019 तक 14.81 % की बढ़ोतरी     Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

ग्वार एक निर्यात आधारित कृषि उत्पाद है लेकिन निर्यात के आंकड़ो के सिवाय यह डॉलर रूपए के कीमत का अनुपात, स्थानीय मांग, बाज़ार में उपज की आवक, वायद बाज़ार के भाव आदि कारको पर भी निर्भर करता है, भारतीय मौषम विभाग के अनुसार अलनीनो का प्रभाव धीर धीर कम हो रहा है l इस वर्ष फिर से एक अच्छे मानसून के आसार बन रहे है l बाकी मौषम विभाग मौषम के बारे में अपना पूर्वानुमान चुनाव आयोग व सरकार की अनुमति के बाद अगले सप्ताह में जारी करेगा l 




पिछले सप्ताह एलनीनो के प्रभाव व बढे हुए निर्यात के आकड़ो के कारन ग्वार के भावो में तेज़ी देखि गयी थी इस सप्ताह भारतीय मौषम विभाग के पूर्वानुमान का असर आज ग्वार की कीमतों पर भी पड़ा है बाज़ार में ग्वार व ग्वार गम की कीमतों में गिरावट दर्ज की गयी है l NCDEX पर 20 मई के सौदे के लिए ग्वार के भाव 33.5 रूपए की गिरावट के साथ 4488 रुपये प्रति क्विटल व ग्वार गम के भाव 87 रूपए की गिरावट के साथ 9116 रूपए प्रति क्विटल के आस पास चल रहे है l 

बाज़ार के जानकारों के अनुसार अप्रैल महिने में ग्वार के कारोबार में सुस्ती रहेगी l बाज़ार में ग्वार की आवक नगण्य या बहुत ही कम है क्योंकि किसान व व्यापारी रबी की उपज की बिक्री व खरीदी में व्यस्त है l निर्यात के नए आर्डर अभी नहीं मिलेगे क्योंकि नए वितवर्ष के आरम्भ में व्यापार में सुस्ती रहती है l भारत में लोकसभा चुनावों के कारण भारतीय बाज़ार में व्यापारिक गतिविधियाँ भी स्थिल है l

ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l


ग्वार की ज्यादा उपज देने वाली नयी संसोधित किस्म “सुपर X-7”

चैनल के सभी दर्शकों को नमस्कार, ग्वार के एक्सक्लूसिव युट्यूब चैनल पर सभी का स्वागत है l इस चैनल के माध्यम से आप सभी तक ग्वार से सम्बंधित ताज़ा जानकारी साझा करते रहेंगे l आशा है की आपके सहयोग व इनपुट से यह चेनल सभी के लिए अत्यंत लाभकारी साबित होगा l चैनल को ज्याद से ज्यादा संख्या शेयर \ व लाईक करे l आप चैनल को सब्सक्राइब जरुर कर ले ताकि ग्वार पर ताज़ा जानकारी के नए विडियो आपको समय पर मिलते रहे l 

आज बाज़ार के अलावा ग्वार पर दूसरी जानकारी देता हूँ उसके बाद ग्वार के बाज़ार के बारे में विचार विमर्ष करेंगे l लगभग दो महीने बाद ग्वार की नयी बीजाई शुरू होगी l किसी भी फसल के लिए तीन महत्वपूर्ण कारक होना बहुत जरुरी है जमीन पानी व बीज l ग्वार उत्पादन क्षेत्र की जमीन में कोई विशेष सुधार नहीं हो सकता, पानी की निर्भरता बारिश व नहर पर है उसमे भी कोई मानव पोषित विशेष बदलाव नहीं हो सकता l तीसरा महत्वपूर्ण कारक है बीज l बीज में समय समय पर संशोधन व विकास होते रहते है l 

ग्वार की ज्यादा उपज देने वाली नयी संसोधित किस्म “सुपर X-7”   Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

आज आपसे ग्वार की नयी किस्म सुपर X-7 के बारे में चर्चा करते है l यह एक संसोधित किस्म है l इस किस्म के पौधे की ऊँचाई सामन्यतया 80-100 सेमी के करीब होती है l यह किस्म सिंचित व असिंचित दोनों क्षेत्रो के लिय उपयुक्त है l खेतो में प्रदर्शन में पाया गया है की यह किस्म 85-100 दिन में पक कर तैयार हो जाती है l ग्वार की फसल में लगने वाले रोग बक्तरिअल ब्लाइट, अल्टरनेरिया ब्लाइट तथा जड़ गलन के लिए अत्यधिक सहनशील है l दानों का रंग मध्यम भूरे रंग का होता है l 

इस किस्म का उत्पादन खेत पर प्रदर्शन में 18-22 क्विटल प्रति हेक्टेयर के बीच आया है l यह किस्म देर से बुवाई व जल्दी बुवाई दोनों परिस्थितियों के लिए उपयुक्त है l पौधे में फलियों की संख्या ज्यदा व फलियों में दानो की संख्या ज्यादा होती है l सबसे विशेष बात यह एक साथ पकाने वाली फसल है l चुकी बुवाई का समय नजदीक है तो किसान अपने पास के डीलर से ये वैरायटी अभी से अडवांस बुकिंग करवाले l यह किस्म 2 किलो की पैकिंग में बिजाई के समय बाज़ार में उपलब्ध होगी l 

अगर बीज मिलने में दिकत हो रही है तो श्री गंगानगर नयी धान मंडी में शिव चौक के पास मनोजकुमार मुकेशकुमार नाम से खाद बीज की बहुत बड़ी डिस्ट्रीब्यूटरशिप है, इस दुकान पर ग्वार के बीज की सुपर X-7 किस्म मिल जाएगी l मोबाइल नंबर विडियो जानकारी में दिया हुआ है कमेंट सेक्शन में भी नंबर डाले हुए है l इनसे बात कर के इस किस्म के अपने बीज की एडवांस बुकिंग करवाले l ग्वार के इस किस्म के बीज को बाज़ार में नेचरलेंड सीड नाम की कंपनी बाज़ार में उपलब्ध करवा रही है l 

यह कंपनी बहुत बड़ी है l बीज के अलावा इस कम्पनी और भी बहुत कारोबार है तो हो सकता है किसानो व डीलर को सीधा जबाब न दे पाए फिर भी कंपनी के मार्केटिंग प्रबंधक श्री सुनील जी निठारवाल के नंबर निचे दिए हुए है l उनसे बात कर सकते है l बाकि आप कमेंट कर के मेरे से इसके बारे में पूछ सकते है l सुपर X-7 के अलावा यह कंपनी दूसरी फसलो व ग्वार की दूसरी वैरायटी या किस्म जैसे सुपर तुलछी, HG 2-20, HG-563, HG-365, RGC-936 आदि के बीज भी किसानों को उपलब्ध करवाती है l 

जमीन, पानी व बीज के अलावा किसान को ग्वार की खेती के लिए बेहतर सस्य क्रियाओं व बीजोपचार पर भी ध्यान देना चाहिए l रबी की फसल की कटाई के बाद गर्मी में खेत की गहरी जुताई कीट व रोग रोक थाम में बहुत ही अच्छे परिणाम देती है l किसान भाइयों को गर्मी में खेत की एक बार गहरी जुताई मिटटी पलटने वाले प्लोव हल से अवश्य कर देनी चाहिए l 

ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l


Friday, 12 April 2019

ग्वार के निर्यात में फ़रवरी 2019 तक 14.81 % की बढ़ोतरी

ग्वार के निर्यात में फ़रवरी 2019 तक 14.81 % की बढ़ोतरी l   इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l 



ग्वार व ग्वार गम पर  ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

“सुपर X-7” ग्वार की ज्यादा उपज देने वाली नयी संसोधित किस्म

 “सुपर X-7” ग्वार की ज्यादा उपज देने वाली नयी संसोधित किस्म l   इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l 


ग्वार व ग्वार गम पर  ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Tuesday, 2 April 2019

ग्वार व ग्वार गम के भावों की चाल नए वित्त वर्ष 2019-2020 क्या रहेगी ?

 ग्वार व ग्वार गम के भावों की चाल नए वित्त वर्ष 2019-2020 क्या रहेगी  ? ? इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l 





ग्वार व ग्वार गम पर  ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

ग्वार व ग्वार गम के भावों की का भविष्य नए वित्त वर्ष 2019-2020 क्या रहेगा ?

आज से नया वितवर्ष शुरू हो गया है व्यापार के हिसाब से यह समय बहुत ही महतवपूर्ण है l क्योंकि व्यापारिक प्रतिष्ठान आज से नया काम, नया निवेश या नये सौदे शुरू करते है l नए वितवर्ष में ग्वार की चाल कैसी रहेगी l आज इसके बारे में चर्चा करते है l ग्वार की कीमतों को प्रभावित करने वाले कई प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष कारण होते है l जैसे की फसल का उत्पादन, फसल की मांग, निर्यात के आंकड़े, NCDEX पर व्यापर का आकर या वॉल्यूम, क्रूड आयल के भाव, डॉलर की कीमतें, मानसून का आगमन, और भी बहुत सारे कारण है l 




मानसून के आगमन के अनुमान को ले कर अलग अलग मत सामने आ रहे है l पहले तो विदेशी व भारतीय मौषम एजेंसी एक ही शुर में चल रही थी l लेकिन अब भारतीय मौषम एजेंसीयों ने नया अनुमान जारी करके अच्छे मौषम का अनुमान बताया है l पिछले सप्ताह के अंत में अच्छे मौषम की खबर का असर ग्वार की कीमतों पर भी पड़ा l लेकिन बाज़ार के जानकारों के अनुसार यह मात्र एक अनुमान है, ग्वार उत्पादन क्षेत्र में ख़राब मौषम के अनुमान में अच्छा मौषम रहने की सम्भावन कम है l लेकिन अच्छे मौषम के अनुमान में ग्वार उत्पादन क्षेत्र में खराब मौषम रह सकता है l 

ग्वार व ग्वार गम के भावों की का भविष्य नए वित्त वर्ष 2019-2020 क्या रहेगा ?  Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

नया वितवर्ष शुरू हुआ है तो व्यापार में तेज़ी आने की उम्मीद है l आने वाले दिनों में ग्वार के व्यापर में नया निवेश हो सकता है l साथ में ग्वार की मांग में भी बढ़ोतरी होगी l अन्तराष्ट्रीय स्तर पर तेल की खुदाई में लगी कंपनियों के मुनाफे में तेल के भाव बढ़ने से बढ़ोतरी होगी l ये कम्पनीज अपने मुनाफे को वापस ड्रिलिंग की गतिविधियों में लगाएगी l बढ़ते मुनाफे के साथ नए निवेश के आने की उम्मीद भी है l 




भारतीय ग्वार कंपनियां अभी भी पारम्परिक तरीके से ग्वार उत्पादों के निर्यात का काम कर रही है l ये कंपनी बिना किसी विशेष वैल्यू एडिशन के ही ग्वार उत्पाद निर्यात कर देती है l सरकार व ग्वार गम उद्योग वैल्यू एडिशन गतिविधि की अनदेखी कर रहे है l कुछ विदेशी कंपनी भारत के एनजीओ के साथ मिल कर किसानों के बीच CSR या समाज सेवा के नाम पर प्रोजेक्ट चलाती है, तथा ग्वार से सम्बंधित जमीनी डाटा इकठ्ठा करती रहती है l इस डाटा का उपयोग वो भारतीय ग्वार गम उद्योग व ग्वार बाज़ार को प्रभावित करने में कर रही है l ये ही विदेशी कंपनी उसी ग्वार गम की थोड़ी बहुत वैल्यू एडिशन करके वापस 10 गुना ज्यादा कीमत पर भारत को ग्वार गम निर्यात कर देती है l 

इस सप्ताह NCDEX पर ग्वार के भाव 16 अप्रैल के सौदे के लिए 4384 रूपए प्रति क्विंटल, BSE पर 30अप्रेल के सौदे के लिए ग्वार के भाव 4406 रूपए प्रति क्विंटल, NCDEX पर स्पॉट के भाव 4400 रूपए प्रति क्विटल l इसी तरह NCDEX पर ग्वार गम के भाव 16 अप्रैल के सौदे के लिए 8850 रूपए प्रति क्विंटल, NCDEX पर ग्वार गम के स्पॉट के भाव 8889 रूपए प्रति क्विटल के आस पास चल रहे है l स्थानीय मंडियों में ग्वार के भाव 4500 रूपए प्रति क्विटल व ग्वार गम के भाव 9000 रूपए प्रति क्विंटल के आस पास चल रहे है l 




किसान अपने माल को रोक कर चल सकते है इस लेवल पर 300-400 रूपए की बढ़ोतरी की उम्मीद है l बाज़ार के जानकारों के अनुसार आज की परिस्थिति के बनी रहती है तो जुलाई तक ग्वार के भावों में मजबूती बनी रहेगी l अगर बाज़ार की परिस्थितियों में बदलाव होता है या ग्वार की निर्यात की मांग और बढ़ जाती है तो ग्वार के भावो में और भी तेज़ी आ सकती है l ग्वार के भावों की 5000 के लेवल को वापस छूने की पूरी की पूरी उम्मीद है l

ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l



Saturday, 30 March 2019

क्या ग्वार के भाव अल नीनो के कारण 10,000 रूपए प्रति क्विंटल हो सकते है ?

निर्यात की बढती मांग व सिमित आवक से ग्वार व ग्वार गम की कीमतों में तेज़ी देखने को मिल रही है l निर्यात की मुख्य मांग कच्चे तेल के कुओं की खुदाई व खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र से आ रही है l अन्तराष्ट्रीय बाज़ारों में कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के कारण तेल के कुओं की खुदाई की गतिविधियों में बढ़ोतरी हो रही है l 22 मार्च 2019 को जारी बैकर हूजे के रिग काउंट के आंकड़ों के अनुसार अमेरिका में 1016 आयल रिग सक्रिय है जो की पिछले वर्ष से 21 ज्यादा है l अन्तराष्ट्रीय बाज़ारों में कच्चा तेल पिछले तीन महिने के उच्चतम स्तर 60 डॉलर प्रति बरेल के आस पास चल रहा है l


भारत की कुछ अग्रणीय ग्वार गम की कंपनियों को विदेशो से खाद्य प्रसस्करण में काम आने वाले ग्वार गम के आर्डर मिले है जो की पहले से जारी ग्वार गम के निर्यात को और बढ़ाएंगे l बाज़ार के जानकारों के अनुसार इस वर्ष ग्वार व ग्वार गम के निर्यात में 10-15 % बढ़ोतरी होने की उम्मीद है l एपेडा द्वारा जारी आंकड़ो के अनुसार अप्रैल 2018 से जनवरी 2019 तक 4,15,822 MT ग्वार व अन्य ग्वार उत्पादों का निर्यात हो चुका है l 

क्या अल-नीनो के कारण ग्वार के भाव 10,000 हो सकते है ?   Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

ग्वार के भावों में बढ़ोतरी के पीछे ग्वार की स्थानीय मंडियों में घटती आवक भी एक प्रमुख वजह है l ग्वार की कुल आवक अभी 15,000 -18,000 बोरी प्रति दिन के आस पास चल रही है l रबी की फसल के आवक के बाद ग्वार की आवक और भी कम होने की उम्मीद है l ग्वार उत्पादक क्षेत्रों में रबी की फसल की आवक मार्च के आखिर तक शुरू हो जाती है जो की अप्रैल मई में अपने उच्चतम स्तर पर होती है l  मौषम एजेंसियों के द्वारा अलनीनो के प्रभाव के पूर्वानुमान के आंकलन के कारण भी ग्वार व ग्वार गम की कीमतों में उछाल देखने को मिल रहा है l अलनीनो एक ऐसी अवस्था का नाम है जिसमे गर्मी बढ़ जाती है और मानसून अच्छी तरह नहीं आ पाता तथा सूखे पड़ने की सम्भावना बढ़ जाती है l विश्व की सभी प्रमुख मौषम एजेंसियों ने इस बार भारत में एलनीनो की आशंका जताई है


इस सप्ताह NCDEX पर ग्वार के भाव 19 अप्रैल के सौदे के लिए 4410 रूपए प्रति क्विंटल, BSE पर 29 मार्च के सौदे के लिए ग्वार के भाव 4460 रूपए प्रति क्विंटल, NCDEX पर स्पॉट के भाव 4447 रूपए प्रति क्विटल l इसी तरह NCDEX पर ग्वार गम के भाव 19 अप्रैल के सौदे के लिए 8980 रूपए प्रति क्विंटल, BSE पर 29 मार्च के सौदे के लिए ग्वार गम के भाव 8723 रूपए प्रति क्विंटल तथा NCDEX पर ग्वार गम के स्पॉट के भाव 9040 रूपए प्रति क्विटल के आस पास चल रहे है l स्थानीय मंडियों में ग्वार के भाव 4500 रूपए प्रति क्विटल व ग्वार गम के भाव 9000 रूपए प्रति क्विंटल के आस पास चल रहे है l

अभी किसान भाई ग्वार के भाव 5000 से ऊपर ले कर के न चले 4500-4600 के लेवल पर ग्वार के भावों में 10-15 दिन तक स्थिरता बहुत जरुरी है l बुवाई से पहले ग्वार के बीज की मांग के कारन अप्रैल, मई व जून महीने में ग्वार के भाव में तेजी रह सकती है l इसके सिवाय मानसून का आगमन व बुवाई के आंकड़े ग्वार के भावों के लिए महत्वपूर्ण कारक होंगे l अभी 1-2 महीने किसान माल को रोक कर चल सकते है l यंहा से 200-300 रूपए प्रति क्विटल की बढ़ोतरी मिल सकती है l ग्वार की कीमतों के कम होने का कोई मजबूत कारण नहीं है l



इसी प्राप्त जानकारी के अनुसार विकास डब्लू एस पी जो की ग्वार गम प्रोसेस व एक्सपोर्ट की एक अग्रणी कंपनी है, इस कंपनी के द्वार विकसित किये गए नए तरह के ग्वार गम पाउडर को अमेरिका की उर्वरक या फ़र्टिलाइज़र बनाने वाली कंपनी IMC केल्लियम ने निर्यात के लिए अप्रूव कर दिया है l IMC केल्लियम कंपनी के प्रतिनिधि अप्रैल महिने में विकास डब्लू एस पी से आर्डर के बारे में फाइनल राउंड बात करने आ रहे है, अगर सब कुछ सही रहता है तो तकरीबन 230 करोड़ रुपये की कीमत का 12500 टन वार्षिक ग्वार गम निर्यात का आर्डर आने वाले वित् वर्ष में विकास डब्लू एस पी को मिल सकता है l जो की भारतीय ग्वार गम उद्योग के लिए एक अच्छा संकेत है l 

ग्वार व ग्वार गम पर  ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l




Thursday, 28 March 2019

क्या अल-नीनो के कारण ग्वार के भाव 10,000 हो सकते है ?

क्या अल-नीनो के कारण ग्वार के भाव 10,000 हो सकते है ? इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l 



ग्वार व ग्वार गम पर  ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Saturday, 23 March 2019

Guar seed and Guar gum cultivation consultancy




Guar is an arid crop grown in western arid part of India. Botanically it is known as Cyamopsis tetragonoloba. Western part of India ( Rajasthna)  is an arid area and rainfall in this area is also very low. Guar crop is grown here since centuries. Guar seed is processed into Guar gum powder, which is used in many industries like crude oil and natural gas, food processing, textile pharmaceuticals etc.... In Portuguese guar gum is known as "Goma De Guar" in Spanish it is known as "Goma de Guar". In German it is known as "Guarkernmehl". In French it is Known as "La gommede guar". In Russian it is known as  "Гуаровая камедь". In greek it is known as " κόμμιγκουάρ ". In Swedish it is known as " Guargummi ". In Chinese It is known as "瓜爾豆膠 " In Italian it is known as "Gomma di Guar". In polish it is known as "Guma guar".

guar, guar gum, guar gum news, guar gum export-2017, guar gum export-2018, guar gum demand-2017, guar gum demand-2018, guar gum production, guar gum cultivation, guar gum cultivation consultancy, Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india,Fundamentally Guar seed and guar gum are very strong , Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar deamand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार , ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार निर्यात , ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग

Guar is an annual legume crop. It is cultivated in low water condition, It requires well drainage soils for good root development.  Guar is a nitrogen fixation crop and it is used as green manure. Green pods of Guar is used as vegetable purpose like other beans.  Guar plant  is good fodder for cattle. Cooked  Guar seed is used as concentrated feed for milking cattle's. By product of guar seed processing is known as Guar meal, Guar korma. There is 50-56% protein in Guar Korma.

guar, guar gum, guar gum news, guar gum export-2017, guar gum export-2018, guar gum demand-2017, guar gum demand-2018, guar gum production, guar gum cultivation, guar gum cultivation consultancy, Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india,Fundamentally Guar seed and guar gum are very strong , Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar deamand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार , ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार निर्यात , ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग


Guar gum seed is an industrial crop. Guar seed is processed into guar split and guar splits are further processed into Guar gum powder. Guar gum power is used in various industries. Guar gum has various food applications. Guar gum is used as  viscosity  agent. Guar gum is also used as stabilizer. Guar gum is widely used in sauces, ketchup, juices, ice cream , biscuits, Gluten free cooking and many more . Guar gum is  used in printing industry as moisture retention in Ink. Guar gum is used in paper industry. Guar gum is used in textile industry.



Guar gum is also used in cosmetic items, shampoo, moisturizers, liquid shop, lipsticks and many more. Guar gum is also used in pharmaceuticals industry as binding agent , viscosity agent. Guar gum is  also used as dietary fibers. Guar gum used in fish and meat industry. The major application of guar gum is in oil and natural gas industry. Guar gum is used as drilling chemical in Oil and Natural Gas Industry. Around 60 % demand of Guar gum  arises from oil and Natural Gas Industry.

Guar gum is very good agriculture crop. Guar gum is beneficial at every stage, green stage is used as green manure, Green pods of Guar gum are is used as vegetable, Guar gum Seeds is used as cattle concentrate. We provide complete solution for Guar gum and Guar gum seed cultivation and guar  gum seed processing, with complete market intelligence and product information. We have provided our services in many countries.


Please feel free to contact us :
Email : ganeshprajapat@gmail.com
Call/Whatsapp +91-9509888669
Youtube : YOUTUBE CHANNEL

MATCHED CONTENT / SIMILAR NEWS