COPY PASTE

Sunday, 14 July 2019

Guar Product Export has increased by 57.78 % in four years

As per data released by APEDA, export of guar products is increasing continuously since last four years. In year 2015-16 export of guar products was 3,25,249 MT. In year 2018-19 it has increased by 57.78 %. In year 2018-19 there was export of 5,13,210 MT of Guar products. Export of total guar gum has increased by 41.38% from 2,56,676 MT in year 2015-16 to 3,62,900 MT in year 2018-19. Export of guar Korma has increased by 119.19% from 68,573 MT in year 2015-16 to 1,50,310 MT in year 2018-19. Export of guar gum split has increased by 85.75% from 45,667 MT in year 2015-16 to 84,828 MT in year 2018-19.


Rainfall is very poor in guar cultivation area. Crop has damaged in rainfed area due to poor soil moisture. Hot and dry winds are drying the soil. Area of Churu, Bikaner, Jaisalmer, Jodhpur and Barmer has not got enough rainfall for gaur sowing. Monsoon is being delayed than predictions. If rainfall will come in next week, then farmers will first go for millets and pulses cultivation, after that they will go for guar cultivation. There are clear sign that, this year guar sowing will come down in comparison to previous years. As per fresh sowing data released by Rajasthan Govt. Guar sowing has completed on 6,27,900 hectare area or 21.7 % of targeted guar cultivation area. 

Guar Product Export has increased by 57.78 % in four years ,  Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019, guar, guar gum, cluster beans, guar gum powder, guar gum price, guar gum uses, ncdex guar, guar price, guar gum price today, cyamopsis tetragonoloba, ncdex guar gum price, guar beans, guar rate today

Increasing export is good sign for whole guar gum industry. Major demand of Guar gum is derived from Oil and natural gas industry. Now guar gum demand is increasing from food and other industries. Indian guar gum companies are taking advance steps and started their business directly in European & Western market without help of any existing international guar gum player. Once the guar gum trade will come out from the dependence of European and western player, Indian guar gum industry will become self-sufficient. 




Guar gum business giants are working with Indian companies by keeping role on Indian partner limited to procurement, production and export. Major chunk of profit of Guar gum industry is kept by these giants. These giants are running few CSR project so that they can keep eyes on procurement, production and export activities of Indian partner companies. Major objective behind such CSR projects, are to gather field data on production, price and processing.
Guar Product Export has increased by 57.78 % in four years ,  Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019, guar, guar gum, cluster beans, guar gum powder, guar gum price, guar gum uses, ncdex guar, guar price, guar gum price today, cyamopsis tetragonoloba, ncdex guar gum price, guar beans, guar rate today
Guar Gum and other Guar products Export from India from 2015-2019
Farmers and traders can hold the current stock. If the conditions will remain positive then there are chances that prices may move upward very fast within 2-3 weeks. Current level of prices will remain lower side for this year even in over supply condition. Any shortage of green fodder will lead to increase in demand of Guar Churi Korma. Churi korma has emerged as major guar product to stabilize the guar prices at lower side. Cattle feed industry will emerge as major industry to generate the guar demand.



In this week NCDEX guar seed price is INR 4343/Quintal for 19thJuly contract. BSE guar seed price for 31th July contract is INR 4318/Quintal; NCDEX spot price is INR 4420/Quintal. NCDEX guar gum price is INR 8880/Quintal for 19th July contract. BSE guar gum price for 31th July contract is INR 9025/Quintal, NCDEX spot price is INR 8993/Quintal. In local physical markets (Mandi) guar seed prices is INR 4400/Quintal and guar gum prices is INR 9000/Quintal.

Please visit and subscribe the YOUTUBE channel, for the latest update and information on Guar & Guar gum.


ग्वार के उत्पादों के निर्यात पिछले चार सालों 57.78 % की वृद्धि l

ग्वार के उत्पादों के निर्यात पिछले चार सालों 57.78 % की वृद्धि ? इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l


ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l


Sunday, 7 July 2019

ग्वार की बीजाई में भारी गिरावट होने से 2019-2020 में ग्वार के भाव बढ़ेंगे

ग्वार की बीजाई में भारी गिरावट होने से 2019-2020 में ग्वार के भाव बढ़ेंगे ? इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l 


ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Friday, 5 July 2019

Guar sowing has completed on 2,52,100 Hectare area in Rajasthan

As per data released by Agriculture department Rajasthan Guar seed (Cluster bean- Cyamopsis tetragonoloba) sowing has completed on 2,52,100 Hectare area. This year Agriculture department Rajasthan has targeted Gaur sowing on 31,00,000 Hectare Area. Till 2nd July, 2019, 8.1 % sowing of targeted guar cultivation has completed. Due to poor return in previous years Farmers will switch to other kharif crops instead of guar. During the same period of last year (Kharif 2018-19) guar sowing was completed on 3,73,600 hectare 




Monsoon has delayed in Rajasthan. Till now deficit rainfall has recorded in Guar growing belt of Gujarat, Rajasthan and Haryana. As per meteorological department monsoon will active after 7th July, 2019. Delay in monsoon will lead to poor sowing and damage of existing guar crop. Major production of Guar comes from rainfed area of Rajasthan. Poor and deficient rainfall will cause poor production and poor quality of guar crop.

Guar sowing has completed on 2,52,100 Hectare area in Rajasthan , Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar futrue demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

By the end of this week rainfall will cover entire guar growing belt. Farmers is rainfed area will go for guar sowing after Bajara ( Pearlmillet- Pennisetum glaucum) and kharif pulses. Sowing of guar will be limited in the rain fed area. Though Guar is good crop but farmer prefers it as low opportunity crop in irrigated belt. Guar is an export oriented crop, having many chemical and physical properties useful for many industries. Poor R&D and competitive business practices by Indian guar gum industries are dispersing the profit out of India. 




Though it seems that guar has given return of 20% - 25 % this year but it was a loss making as at the time of arrival prices were high and after that prices fell down and didn’t recovered to same level. Farmer & trader were expecting guar prices above 5000 level. This year, guar didn’t cross 5000 level. Crude oil price is considered as major fundamental for Guar, but this year guar prices didn’t follow the same path of crude oil prices. 

In this week NCDEX guar seed prices are INR 4302/Quintal for 19th July contract. BSE guar seed prices for 31th July contract are INR 4357/Quintal; NCDEX spot prices are INR 4350/Quintal. NCDEX guar gum prices are INR 8610/Quintal for 19th July contract. BSE guar gum prices for 31th July contract are INR 8739/Quintal, NCDEX spot prices are INR 8725/Quintal. In local physical markets (Mandi) guar seed prices are INR 4400/Quintal and guar gum prices are INR 8800/Quintal.

Please visit and subscribe the YOUTUBE channel, for the latest update and information on Guar & Guar gum


Saturday, 22 June 2019

मानसून में देरी से ग्वार की बीजाई इस वर्ष कैसी रहेगी ?

मौषम विभाग के अनुसार राजस्थान में मानसून देरी से आने की उम्मीद है । मौषम विभाग के आंकलन के अनुसार 15 जुलाई तक राजस्थान में मानसून आएगा। मानसून के देरी से आने से ग्वार की बिजाई प्रभावित होगी । ग्वार की सामान्य बुवाई 20-22 जून के आस पास हो जानी चाहिए। वायु चक्रवात तूफ़ान के साथ राजस्थान में बारिश होने की उम्मीद थी। लेकिन वायु तूफ़ान भारत में नहीं घुसा और किनारों से होता हुआ चला गया। ताज़ा जानकारी के अनुसार वायु तूफान वापस भारत की तरफ रुख कर सकता है । इससे राजस्थान में कुछ बारिश हो सकती है ।
लेट होने के बावजूद अगर मानसून अच्छा रहता है तो किसान ग्वार की तुलना में दूसरी खरीफ की फसलों की खेती करेगा l इस वर्ष राजस्थान में मुख्य चुनाव पुरे हो चुके है l राज्य सरकार ने नए फसली ऋण देने में भी अपने हाथ पीछे कर लिए है l पुराने फसली ऋण में फसे किसानो को भी सरकार से कोई विशेष सहायत मिलने की उम्मीद नहीं है l ऐसी स्थिति में किसान सबसे पहले बाजार मूंग मोठ को प्रथमिकत देगा l इस साल बाजरे के भाव भी अच्छे रहे है l अतः किसान के लिए ग्वार दूसरी वरीयता की फसल रहेगी l 

मानसून में देरी से ग्वार की बीजाई घटेगी या बढ़ेगी ? ?, Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

उधर अमेरिका व इरान के बीच राजनैतिक संकट और गहराता जा रहा है l इरान के पास जापान को जाने वाले तेल टेंकरों पर आक्रमण का दोष अमेरिका, ईरान के ऊपर डाल रहा है l इस आक्रमण के चलते इस सप्ताह तेल की कीमतों में 4% से ज्यादा की बढ़ोतरी भी देखी गयी है l बैकरहूज के आयल रिग की गिनती के आंकड़ो के अनुसार आयल रिग की संख्या में गिरावट दर्ज को गयी है l इन आंकड़ों के अनुसार अमेरिका में 969 आयल रिग सक्रिय है जो की पिछले वर्ष से 90 कम है तथा पिछले सप्ताह के मुकाबले 6 कम है l घटती हुयी आयल रिग की संख्या तेल की खुदाई में काम आने वाले रसायन व ग्वार गम के मांग में कमी को दर्शाती है l 

पिछले वर्ष ग्वार की कुल बीजाई राजस्थान में 30,87,769 हक्टैयर पर हुई थी तथा उत्पादन 1,03,14,150 क्विटल तकरीबन एक करोड़ तीन लाख बोरी का हुआ था l ग्वार की उत्पादकता प्रति हेक्टेयर 3.34 क्विंटल की रही थी l इस वर्ष अनुमान के मुताबिक बीजाई 30 लाख हेक्टेयर से कम होने की उम्मीद है l ग्वार का उत्पादन मानसून व ग्वार की उत्पादकता पर निर्भर करेगा l राजस्थान ग्वार का मुख्य उत्पादक राज्य है उसके बाद ग्वार का उत्पादन हरियाणा में होता है पिछले वर्ष हरियाणा में ग्वार की बीजाई 2,46,000 हक्टैयर में हुयी थी तथा ग्वार का उत्पादन 7,87,200 क्विंटल या तकरीबन 7.87 लाख बोरी का हुआ था l हरियाणा के बाद ग्वार का उत्पादन गुजरात में होता है पिछले वर्ष गुजरात में ग्वार की बीजाई 1,34,660 हक्टैयर में हुयी थी तथा ग्वार का उत्पादन 7,35,200 क्विंटल तकरीबन 7.35 लाख बोरी का हुआ था l 
मौषम की बेरुखी का सबसे बुरा प्रभाव बाड़मेर जैसलमेर क्षेत्र में पड रहा है l बारिश के आने से पहले ही अकाल पड़ने की स्थिति उत्पन्न हो गयी है l चारे व पानी के अभाव में भारी मात्रा में पशुधन काल के ग्राश बनते जा रहे है l ऊपर से सूर्य देव भयंकर आग बरसा रहे है l इस बीच कई क्षेत्रों में टिड्डी दल ने भी आक्रमण कर दिया है l सिंचित क्षेत्रो में किसानों के और भी बुरे हाल है l मानसून के समय पर आने की उम्मीद में किसानों से जैसे तैसे सिचाई कर के बीजाई तो कर दी लेकिन नहरो में प्रयाप्त मात्रा में पानी नहीं होने के कारन बीजाई की हुयी फसल भी ख़राब हो रही है l पशुओं के लिए हरे चारे का भी संकट खड़ा हो गया है l 

मानसून के लेट होने से सिंचित क्षेत्रो में ग्वार की बीजाई का समय भी निकल रहा है l ग्वार की बीजाई में देरी होने से ग्वार की फसल पकने में ज्यादा समय लेगी l अगर कटाई में ज्यादा समय लगता है तो रबी की फसल की बीजाई में देरी होगी l लेकिन किसान रबी की फसल में देरी नहीं करेगा क्योंकि रबी की फसल सिंचित क्षेत्रो में मुख्य फसल होती है l अतः किसान ग्वार की फसल को बिना अच्छी तरह पके या नमी की अवस्था में ही कटाई करेगा l जिससे ग्वार की उत्पादकता पर बुरा असर पड़ेगा l 

ग्वार के भावों पर कमजोर मांग व घटते निर्यात का असर बना रहेगा l अभी कोई विशेस तेज़ी की सम्भावना नहीं हैl अगर मानसून 30 जून तक सक्रिय नहीं होता है तो l ग्वार के भावों में तेज़ी का रूख बन सकता है l बीजाई जितनी ज्यादा लेट होगी ग्वार के भाव उतने ही ज्यादा मजबूत होंगे l सामान्य मानसून की स्थिति में भी नीचे की तरफ ग्वार 4000 का स्तर नहीं तोड़ेगा l अबकी बार ग्वार का केरी ओवर स्टॉक पिछले साल के मुकाबले बहुत ही कम है l अभी किसान व व्यापारी ग्वार व ग्वार गम की बिकवाली में ना आये l

Sunday, 16 June 2019

2019-20 में मानसून में देरी से ग्वार की बीजाई घटेगी या बढ़ेगी ?

2019-20 में मानसून में देरी से ग्वार की बीजाई घटेगी या बढ़ेगी ? इसके बारे में पूरी जानकारी के लिए पूरा YOUTUBE विडियो देखे l


ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l

Friday, 14 June 2019

क्या 2019-20 में ग्वार की खेती फायदेमंद रहेगी ?

अमेरिका व चीन के बीच जारी व्यापारिक तनाव के कारण कच्चे तेल की कीमते अन्तराष्ट्रीय बाज़ारों में तेज़ी से गिर रही है l अभी कच्चे तेल की कीमत 61 डॉलर प्रति बरेल से भी निचे आगई है l जो की पिछले चार महिने के निम्नतम स्तर पर है l गिरती हुयी कच्चे तेल की कीमतों ने अंतराष्ट्रीय बाज़ारों में दबाब बना रखा है l अमेरिका में कच्चे तेल की खुदाई की आयल रिग की संख्या में भी गिरावट दर्ज की गयी है l अमेरिक में अभी 984 आयल रिग सक्रिय है जो की पिछले वर्ष की गणना से 76 कम है l बारिश के बाद में कच्चे तेल कीमते ग्वार को प्रभावित करने वाला सबसे बड़ा कारक है l


साधारणतया जून-जुलाई का महीना ग्वार व ग्वार की बिजाई का समय होता है l इसा समय ग्वार की मांग बाज़ार में ज्यादा रहती है। इस समय किसान से ग्वार की आवक बाज़ार में नहीं होती है।ज्यादातर छोटे किसान अपना ग्वार का स्टॉक फ़रवरी-मार्च तक बेच चुके होते है। सिंचित क्षेत्र के किसान प्रमाणित बीज से बीजाई करते है l लेकिन बरानी क्षेत्र में किसान अपने घर का बीज ही काम में लेते है l प्राप्त जानकारी के अनुसार कपास व खरीफ की दूसरी दालों के अच्छे भाव मिलाने के कारन ग्वार की बीजाई पीछल्रे वर्ष से घटने की आशंका है l

ग्वार की नयी फसल अक्तूबर व नवम्बर महीने में आएगी। व्यापारी या खरीददार अभी ग्वार व ग्वार गम के स्टॉक लेने की बजाय नयी फसल के आगमन पर ग्वार या ग्वार गम खरीदने की योजना बनायेंगे। कमजोर व मानसून में देरी के सिवाय कोई भी दूसरा फंडामेंटल कारक अभी ऐसा नहीं है जो ग्वार व ग्वार गम की कीमतों को सहारा दे सके l बाज़ार के जानकारों के अनुसार ग्वार निचे के स्तर 4000 रूपए प्रति क्विटल को नहीं तोड़ेगा l ग्वार अभी 4100 रूपए प्रति क्विटल के आस पास चल रहा है l


इस वर्ष ग्वार व ग्वार गम की कीमतों ने किसानो को कोई ज्यादा मुनाफा नहीं दिया है l पुरे वर्ष के दौरान ग्वार की कीमते 4100-4800 के बीच में घटती बढती रही। ग्वार गम पाउडर की निर्यात की मांग नहीं होने के कारन ग्वार गम के भावों में इस वर्ष तेज़ी देखने को नहीं मिली। ग्वार की कीमतों को मुख्य सहारा इस वर्ष ग्वार चुरी कोरमा की कीमतों से मिला है l ग्वार चुरी निर्यात होने वाला एक महत्वपूर्ण ग्वार उत्पाद के रूप में उभरा है l विदेशों में पशु आहार प्रोटीन की बढती मांग के कारण के ग्वार चुरी व ग्वार कोरमा के निर्यात में बढ़ोतरी हुयी है l ग्वार गम के पाउडर के निर्यात में कमी दर्ज की गयी है हालाँकि अभी पिछले वर्ष के फाइनल आंकड़े नहीं आये है l 



किसान भाई ग्वार की फसल को प्राथमिक फसल के रूप में बिजाई न करे l ग्वार की फसल को दूसरी वरीयता दे l बाज़ार में जीतनी ज्यादा आवक ग्वार की रहेगी किसान को उतना ही नुकसान है l कृषि गोदामों में रखा माल ग्वार के भाव को चढने ही नहीं देगा l मजबूरन किसानों को विदेशी कंपनी से निर्धारित दाम पर माल बेचन पड़ेगा l जो ग्वार गम पाउडर हम भारत से 100 रुपये किलो पर बहार भेजते है l वो ही ग्वार गम भारत में 1000 रूपए प्रति किलो के भाव पर वापस आ रहा है l

अभी तक की परिस्थिति के अनुसार किसान ग्वार के भाव को 5000 रूपए प्रति क्विटल से ऊपर ले कर नहीं चले l जन्हा तक मानसून के आगमन का सवाल है l अभी तक मानसून के सामान्य रहने की उम्मीद है । केरल में मानसून का आगमन हो चूका है। सामान्य मानसून की स्थिति में ग्वार उत्पादन क्षेत्र में खरीफ की दूसरी दलहन फसलों की बिजाई ग्वार से ज्यादा होगी l हरियाणा में हरियाणा सरकार मक्का की खेती पर किसानों को आर्थिक सहायत दे रही है । राजस्थान में भी किसान बाजार मूंग मोठ पर ज्यादा ध्यान दे रहे है, इस वर्ष किसानों को बाजरे के अच्छे दाम मिल रहे है l 

ग्वार व ग्वार गम पर ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l



MATCHED CONTENT / SIMILAR NEWS