COPY PASTE

Saturday, 30 March 2019

क्या ग्वार के भाव अल नीनो के कारण 10,000 रूपए प्रति क्विंटल हो सकते है ?

निर्यात की बढती मांग व सिमित आवक से ग्वार व ग्वार गम की कीमतों में तेज़ी देखने को मिल रही है l निर्यात की मुख्य मांग कच्चे तेल के कुओं की खुदाई व खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र से आ रही है l अन्तराष्ट्रीय बाज़ारों में कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के कारण तेल के कुओं की खुदाई की गतिविधियों में बढ़ोतरी हो रही है l 22 मार्च 2019 को जारी बैकर हूजे के रिग काउंट के आंकड़ों के अनुसार अमेरिका में 1016 आयल रिग सक्रिय है जो की पिछले वर्ष से 21 ज्यादा है l अन्तराष्ट्रीय बाज़ारों में कच्चा तेल पिछले तीन महिने के उच्चतम स्तर 60 डॉलर प्रति बरेल के आस पास चल रहा है l


भारत की कुछ अग्रणीय ग्वार गम की कंपनियों को विदेशो से खाद्य प्रसस्करण में काम आने वाले ग्वार गम के आर्डर मिले है जो की पहले से जारी ग्वार गम के निर्यात को और बढ़ाएंगे l बाज़ार के जानकारों के अनुसार इस वर्ष ग्वार व ग्वार गम के निर्यात में 10-15 % बढ़ोतरी होने की उम्मीद है l एपेडा द्वारा जारी आंकड़ो के अनुसार अप्रैल 2018 से जनवरी 2019 तक 4,15,822 MT ग्वार व अन्य ग्वार उत्पादों का निर्यात हो चुका है l 

क्या अल-नीनो के कारण ग्वार के भाव 10,000 हो सकते है ?   Guar, guar gum, guar price, guar gum price, guar demand, guar gum demand, guar seed production, guar seed stock, guar seed consumption, guar gum cultivation, guar gum cultivation in india, Guar gum farming, guar gum export from india , guar seed export, guar gum export, guar gum farming, guar gum cultivation consultancy, today guar price, today guar gum price, ग्वार, ग्वार गम, ग्वार मांग, ग्वार गम निर्यात 2018-2019, ग्वार गम निर्यात -2019, ग्वार उत्पादन, ग्वार कीमत, ग्वार गम मांग, Guar Gum, Guar seed, guar , guar gum, guar gum export from india, guar gum export to USA, guar demand USA, guar future price, guar future demand, guar production 2019, guar gum demand 2019

ग्वार के भावों में बढ़ोतरी के पीछे ग्वार की स्थानीय मंडियों में घटती आवक भी एक प्रमुख वजह है l ग्वार की कुल आवक अभी 15,000 -18,000 बोरी प्रति दिन के आस पास चल रही है l रबी की फसल के आवक के बाद ग्वार की आवक और भी कम होने की उम्मीद है l ग्वार उत्पादक क्षेत्रों में रबी की फसल की आवक मार्च के आखिर तक शुरू हो जाती है जो की अप्रैल मई में अपने उच्चतम स्तर पर होती है l  मौषम एजेंसियों के द्वारा अलनीनो के प्रभाव के पूर्वानुमान के आंकलन के कारण भी ग्वार व ग्वार गम की कीमतों में उछाल देखने को मिल रहा है l अलनीनो एक ऐसी अवस्था का नाम है जिसमे गर्मी बढ़ जाती है और मानसून अच्छी तरह नहीं आ पाता तथा सूखे पड़ने की सम्भावना बढ़ जाती है l विश्व की सभी प्रमुख मौषम एजेंसियों ने इस बार भारत में एलनीनो की आशंका जताई है


इस सप्ताह NCDEX पर ग्वार के भाव 19 अप्रैल के सौदे के लिए 4410 रूपए प्रति क्विंटल, BSE पर 29 मार्च के सौदे के लिए ग्वार के भाव 4460 रूपए प्रति क्विंटल, NCDEX पर स्पॉट के भाव 4447 रूपए प्रति क्विटल l इसी तरह NCDEX पर ग्वार गम के भाव 19 अप्रैल के सौदे के लिए 8980 रूपए प्रति क्विंटल, BSE पर 29 मार्च के सौदे के लिए ग्वार गम के भाव 8723 रूपए प्रति क्विंटल तथा NCDEX पर ग्वार गम के स्पॉट के भाव 9040 रूपए प्रति क्विटल के आस पास चल रहे है l स्थानीय मंडियों में ग्वार के भाव 4500 रूपए प्रति क्विटल व ग्वार गम के भाव 9000 रूपए प्रति क्विंटल के आस पास चल रहे है l

अभी किसान भाई ग्वार के भाव 5000 से ऊपर ले कर के न चले 4500-4600 के लेवल पर ग्वार के भावों में 10-15 दिन तक स्थिरता बहुत जरुरी है l बुवाई से पहले ग्वार के बीज की मांग के कारन अप्रैल, मई व जून महीने में ग्वार के भाव में तेजी रह सकती है l इसके सिवाय मानसून का आगमन व बुवाई के आंकड़े ग्वार के भावों के लिए महत्वपूर्ण कारक होंगे l अभी 1-2 महीने किसान माल को रोक कर चल सकते है l यंहा से 200-300 रूपए प्रति क्विटल की बढ़ोतरी मिल सकती है l ग्वार की कीमतों के कम होने का कोई मजबूत कारण नहीं है l



इसी प्राप्त जानकारी के अनुसार विकास डब्लू एस पी जो की ग्वार गम प्रोसेस व एक्सपोर्ट की एक अग्रणी कंपनी है, इस कंपनी के द्वार विकसित किये गए नए तरह के ग्वार गम पाउडर को अमेरिका की उर्वरक या फ़र्टिलाइज़र बनाने वाली कंपनी IMC केल्लियम ने निर्यात के लिए अप्रूव कर दिया है l IMC केल्लियम कंपनी के प्रतिनिधि अप्रैल महिने में विकास डब्लू एस पी से आर्डर के बारे में फाइनल राउंड बात करने आ रहे है, अगर सब कुछ सही रहता है तो तकरीबन 230 करोड़ रुपये की कीमत का 12500 टन वार्षिक ग्वार गम निर्यात का आर्डर आने वाले वित् वर्ष में विकास डब्लू एस पी को मिल सकता है l जो की भारतीय ग्वार गम उद्योग के लिए एक अच्छा संकेत है l 

ग्वार व ग्वार गम पर  ज्यादा जानकारी के YOUTUBE के चैनल को सब्सक्राइब करे, ताकि ग्वार पर ताज़ा अपडेट के नए YOUTUBE विडियो आपको समय पर मिलते रहे l




No comments:

Post a comment

MATCHED CONTENT / SIMILAR NEWS