Friday, 12 January 2018

क्रूड आयल की सुर्ख तेज़ी, ग्वार व ग्वार गम के भावों में तेज़ी का अच्छा संकेत

क्रूड आयल अपने तीन साल के उच्चतम स्तर पर है ।. अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड आयल का व्यापर 69 डालर प्रति बैरल के आस पास हो रहा है । जून-2017 के बाद क्रूड आयल की कीमते 49% से ज्यादा बढ़ गयी है । कम उत्पादन के कारण क्रूड आयल की अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में बहुत ज्यादा मांग है । क्रूड आयल की कीमते 80 अमरिकि डॉलर की तरफ चढ रही है। मुख्यतः इसके पीछे तीन-चार कारण है । अंतरराष्ट्रीय बाज़ारों में अच्छी मांग, अभी तेल का उत्पादन कम , पूरा का पूरा उत्तरी विश्व भयंकर ठण्ड की चपेट, विश्व में राजनैतिक अनिश्चिता का वातावरण बना हुआ है । चढ़ती हुयी कीमतों के कारण तेल व प्राकृतिक गैस क्षेत्र अमरीका में निवेश को अत्त्यधिक आकर्षित कर रहा है ।     

विशषज्ञों के मुताबिक तेल के कुओं की खुदाई में काम आने वाले रसायन व पदार्थों की मांग तेल की कीमतों के साथ धीरे धीरे बढ़ेगी। ग्वार गम में मिश्रण को गाढ़ा बनाने का गुण होता है जिसके कारण इसका उपयोग जेलिंग कारक के रूप में होता है । ग्वार गम दुसरे रसायनों के साथ विशेष प्रकार की मोटी बजरी में मिलाया जाता है । उसके बाद इस मिश्रण को अत्यधिक दबाब के साथ तेल के कुए में भेजा जाता है । 



ग्वार भारत से निर्यात की जाने वाला प्रमुख कृषि उत्पाद है, तथा देश के विदेशी मुद्रा भंडार में अपना योगदान देता है । ये बहुत ज्यादा ऊपर निचे होने वाली कमोडिटी है, क्योंकि ये एक विशेष भौगोलिक क्षेत्र में एक सिमित मात्रा में ही उगाई जाती है । ग्वार NCDEX में वायदा व्यापार करने के लिए मान्यता प्राप्त कृषि  जींस है । आज 11,जनवरी-2018 को ग्वार व ग्वार गम की कीमते वायदा बाज़ार बाज़ार NCDEX में उपर के स्तर पर मुनाफा वसूली के चलते टूट गयी। बाज़ार में सट्टेबाज़ सक्रिय है । बाज़ार बढ़ी हुए कीमतों को समायोजन करने में कुछ समय लेगा ।    

Guar gum news


फिलहार बाज़ार में ग्वार की आवक बेहद कम है । किसान, छोटे  व स्टॉकिस्ट  माल को फ़िलहाल रोके हुयें है । अगर माल को ज्यादा रोका गया व कृत्रिम कमी करने की कोशिश की गयी तो, कहीं ना कंही पूरी ग्वार गम उद्योग को नुकसान ही होगा क्योंकि तेल खुदाई करने वाली कम्पनीयां ग्वार गम के दुसरे पूरक उत्पादों की तरफ रूख करलेगी । वर्ष 2012-2013 की तेज़ी के दौरान ग्वार गम के पूरक उत्पाद विकसित कर लिए गए है व उनक सफल परीक्षण भी कर लिया गया है ।  



बाज़ार सिर्फ एक साथ में दो  तीनसप्ताह में ऊपर नहीं चला जायेगा, ग्वार व ग्वार गम की कीमतें अपने आप को देशी व विदेशी कारको के बीच में समायोजित करने में कुछ समय लेगी। किसानों व व्यापारियों को सिर्फ एक तरफा चढ़ाव के बारे में आशा नहीं रखनी चाहिए । अभी ग्वार की कीमतों में बहुत उतर चढाव आयेंगे । स्थानीय बाज़ार अभी बहुत मजबूत है । इस साल ग्वार की आवक / पूर्ति पिछले सालो के मुकाबले बहुत ही सीमित है । अभी ग्वार गम की मांग का पक्ष बहुत मजबूत है ।        

No comments:

Post a Comment